दर-दर की ठोकर खाने को मजबूर माँ-बाप, सीएम-पीएम कार्यालय तक कहीं सुनवाई नहीं

December 25th, 2017 | OTHER

दर-दर की ठोकर खाने को मजबूर माँ-बाप, सीएम-पीएम कार्यालय तक कहीं सुनवाई नहीं

लखनऊ। कानून व्यवस्था की लचरता हमेशा कमजोर, मजबूर और बिना किसी बड़े नाम के दवाब वाले लोगों के साथ ही क्यों देखने को मिलती है। एक मां-बाप पिछले तीन महीने से अपने जिगर के टुकड़े के लापता होने के बाद पुलिस महकमे के साथ ही सीएम जनता दरबार और वाराणसी में पीएम कार्यालय तक चक्कर लगा चुका हैं। उसके बाद भी परिवार का आरोप है आरोपियों पर किसी तरह की करवाई नहीं हो रही है। न ही पुलिस का रवईया मित्रवत है। जिससे परिवार की आशा की डोर लगातार टूटती जा रही है। हर जगह केवल निराशा मिलने के बाद लापता सचिन के माँ-बाप सहित उनके घरवाले आज हजरतगंज स्थित गांधी प्रतिमा में धरने पर बैठे। उनकी मांग है कि घटना में दोषी पुलिस अधिकारियों पर कार्यवाई के साथ मामले की सीबीआई जांच हो। सचिन के माँ-बाप का कहना है कि अगर ऐसा नहीं हुआ तो वह अपने इकलौते पुत्र के दुःख में आत्महत्या कर लेंगे। बता दें कि मऊ जिले के थाना सरायलखंसी के बुढ़ावे गाँव के रहने वाले विनोद कुमार मौर्या के पुत्र सचिन मौर्य 27 सितम्बर 2017 को घर से कोचिंग के लिए निकला था, जिसके बाद से वह घर लौटा ही नहीं। सचिन मौर्या के पिता ने गाँव के ही चन्द्रभान यादव के खिलाफ एफआईआर दर्ज कराई थी लेकिन पुलिस ने किसी भी प्रकार की कार्यवाई नहीं की। सचिन के पिता विनोद कुमार मौर्या का कहना है कि चन्द्रभान से उनकी पुरानी रंजिश है। इसलिए उन्हें शक है कि उनके पुत्र के अपहरण में चन्द्रभान की साजिश हो सकती है। दूसरे दिन साइकिल तालाब में मिली... पिता विनोद कुमार मौर्या का कहना है कि घटना के दूसरे दिन उनके पुत्र की साइकिल एक तालाब में मिली और अपहरण स्थल का पता चल गया लेकिन इसके बावजूद पुलिस ने कोई कार्यवाई नहीं की। थानध्यक्ष आरोपी को बचा रहे हैं... पिता का कहना है कि आरोपी चन्द्रभान यादव 3 माह 19 दिन जेल में रह चुका है। एफआईआर के 13 दिन बाद थानाध्यक्ष सुनील चंद्र तिवारी ने चन्द्रभान से पूछताछ की लेकिन उसके बाद आरोपी के खिलाफ कोई एक्शन नहीं लिया गया और वह खुलेआम घूम रहा है। विनोद का आरोप है कि थानाध्यक्ष की ओर से आरोपी की मदद की गयी और सुबूतों और तथ्यों को मिटाया भी गया। अधिकारियों ने भी नहीं सुनी... विनोद कुमार मौर्या ने बताया कि थाने में सुनवाई न होने के बाद उन्होंने मऊ जिले के पुलिस अधीक्षक और जिलाधिकारी का दरवाजा खटखटाया लेकिन को लिखित और मौखिक रूप से घटना के बारे में बताया लेकिन वहां से भी निराशा हाथ लगी। जनता दरबार और पीएम कार्यालय से भी निराश लौटे... विनोद कुमार मौर्या ने बताया कि इसके बाद उन्होंने सीएम योगी आदित्यनाथ के जनता दरबार में 9 अक्टूबर को प्रार्थनापत्र दिया और जनसुनवाई पोर्टल पर दो-दो बार शिकायत दर्ज करवाई लेकिन कोई सुनवाई नहीं हुई। इसके बाद प्रधानमंत्री कार्यालय वाराणसी में भी शिकायत कराई लेकिन कोई कार्यवाई नहीं हुई। सीबीआई जांच के लिए दिया लेटर... विनोद कुमार मौर्या ने बताया कि 21 सितम्बर 2017 को उन्होंने मुख्यमंत्री और डीजीपी को घटना की सीबीआई जांच के लिए लेटर लिखा था लेकिन अभी तक कोई कार्यवाई नहीं हुई।

ख़बरों से अपडेट रहने के लिए हमारा फेसबुक पेज लाइक करें…

ख़बरों से अपडेट रहने के लिए हमारा फेसबुक पेज लाइक करें और यूट्यूब पर सब्सक्राइब करें…

Subscribe

Like this News, become a Newsinvestigator Reporter with a Click and make your voice heard.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *


Categories

Bollywood Crime Politics Lucknow Zyaka Other