Breaking News

बायकॉट ट्रेंड पर अक्षय कुमार ने तोडा दम “ऐसी हरकतों से देश की अर्थव्यवस्था पर पड़ता है असर”..

बॉलीवुड के परफेक्शनिस्ट आमिर खान की फिल्म ‘लाल सिंह चड्ढा’ पिछले हफ्ते 11 अगस्त को रिलीज हुई थी. आमिर की दूसरी फिल्मों की तरह इस फिल्म के भी ब्लॉकबस्टर होने की उम्मीद थी. हालांकि, फिल्म बॉक्स ऑफिस पर सफल नहीं हो पाई थी. दर्शकों की ‘लाल सिंह चड्ढा’ से मुंह मोड़ने की एक तस्वीर है और इस फिल्म के कई शो भी रद्द कर दिए गए हैं.

एक तरफ आमिर खान की लाल सिंह चड्ढा ने अभी तक 50 करोड़ रुपये का कलेक्शन नहीं किया है. वहीं अक्षय कुमार की फिल्म ने 16 अगस्त को आमिर की फिल्म से ज्यादा कमाई की है. मंगलवार को लाल सिंह चड्ढा की कमाई दो करोड़ थी. हालांकि अक्षय कुमार की फिल्म ने छठे दिन 2.10 करोड़ का बिजनेस किया है. 70 करोड़ में बनी रक्षाबंधन फिल्म का कुल बॉक्स ऑफिस कलेक्शन 36.57 करोड़ है. फिल्म का बजट बनाना भी मुश्किल हो गया है.

हिंदुस्तान टाइम्स से बातचीत में अक्षय कुमार ने कहा, “लोग बुद्धिमान होते हैं, उन्हें पता होता है कि क्या सही है और क्या गलत. मैं उनसे केवल यही अनुरोध कर सकता हूं कि ऐसी गलती न करें. यह सही नहीं है और यह उद्योग को नुकसान पहुंचाता है. अब क्या हो गया है, सबको अपना कुछ कहना है. फिल्म बहुत पैसे और मेहनत से बनती है. ऐसा करने से भारत की अर्थव्यवस्था प्रभावित होती है और हम वास्तव में केवल खुद को नुकसान पहुंचा रहे हैं और मुझे उम्मीद है कि लोग इसे जल्द ही समझेंगे.

आगे दक्षिण की हिट फिल्मों के बारे में बात करते हुए, अभिनेता ने कहा, “यह सब फिल्म पर निर्भर करता है न कि इस पर कि यह दक्षिण की फिल्म है या उत्तर की फिल्म है. फिल्में चलती हैं क्योंकि वे अच्छी हैं और नहीं चलती हैं क्योंकि वे अच्छी नहीं हैं . हमें बस इतना करना है कि सही फिल्में बनाएं.”

निर्देशक आनंद एल राय ने भी इस मुद्दे पर बात की और कहा कि एक निर्देशक के लिए अपनी बात रखना बहुत जरूरी है. सबकी अपनी-अपनी पसंद होती है. यह अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता है और वे इसका उपयोग कैसे करते हैं. मुझे लगता है कि दर्शकों के पास ताकत है, वे जानते हैं कि वे क्या चाहते हैं और उन्हें कोई नहीं रोक सकता.”

‘लाल सिंह चड्ढा’ पर भड़कीं मोना सिंह
फिल्म के विरोध में एक्ट्रेस मोना सिंह ने प्रतिक्रिया दी है. इंडिया टुडे को दिए एक इंटरव्यू में मोना सिंह ने कहा, “मैं बहुत दुखी हूं, मुझे समझ नहीं आ रहा है कि आमिर ने ऐसा क्या किया है कि उन्हें यह सब देखना है. उन्होंने हमेशा 30 साल तक हमारा मनोरंजन किया है. मुझे यकीन था कि बहिष्कार करने वाले समझेंगे. जब वे देखते हैं कि फिल्म हर भारतीय को पसंद आ रही है.”

पंकज त्रिपाठी ने भी किया रिएक्ट
कैंसिल कल्चर को लेकर पंकज त्रिपाठी ने एक इंटरव्यू में कहा, ‘लोकतांत्रिक दुनिया में हर किसी को अपनी राय रखने का हक है. लेकिन साथ ही फिल्में एक बड़ा माध्यम हैं, जो सरकार के लिए राजस्व उत्पन्न करती हैं. इस राजस्व का उपयोग समाज की भलाई के लिए किया जाता है. लेकिन, सहमत हों या न हों, अपनी राय व्यक्त करना सभी का अधिकार है.

About Amit

Check Also

बिग बॉस की 1000 करोड़ फीस पर सलमान खान ने तोड़ी चुप्पी, बोले- ‘मेरे बहुत खर्चे हैं और…’

टीवी के सबसे चर्चित शो बिग बॉस के 16 वें सीजन में एक बार फिर …

2 comments

  1. संजीव कुमार

    अक्षय कुमार ज्यादा अर्थशास्त्री मत बनों। खुद तो यहाँ से फिल्म के माध्यम से बनाएँ रूपये कनाडा में निवेश कर दिया और वहां की नागरिकता ले लिया। और बात करता है राजस्व की। तुम लोग थोथी दलीलें मत दिया करो। ये पंकज त्रिपाठी भी अर्थशास्त्री बन गया है। कुछ फिल्मे क्या चल गई अब वो अर्थशास्त्र का ज्ञाता बन गया है। जनता की मर्जी वो फिल्म देखे अथवा नहीं। जनता फिल्म देखकर व्यर्थ में पैसा क्यो बर्बाद करें। वो पैसा कोई नेक काम में लगएगे। नशेड़ियो और चरसियों का फिल्म क्यो देखेंगे।

  2. देश भक्ति की फिल्म बनाओ राष्ट्र के parti लोगो को जागरूक करने के बारे में फिल्म बनाओ और सही कहानी बनाओ और किसी भी धर्म के parti galat vayavar mat karo किसी भी धर्म को ठेस पहुंचे ऐसा काम मत करो और मैन बात आप सब सेलिब्रिटी हो तो जो देश में सही है वो सही बताओ ओर जो गलत है उसको गलत बताओ आपकी बातो को देश सुनता है लेकिन आप ऐसा करते नही है।