बीजेपी के 24 से ज्यादा सांसदों के टिकट कटने के आसार, उम्मीदवारी पर लटकी तलवार

March 13th, 2019 | POLITICS

बीजेपी के 24 से ज्यादा सांसदों के टिकट कटने के आसार, उम्मीदवारी पर लटकी तलवार

लोकसभा 2019 चुनावों की जितनी तेज़ी से तैयारियां चल रही है उतनी तेज़ी से उम्मीदवारों की निगाहें भी चुनाव लड़ने के लिए अपनी पार्टी की तरफ लगी हुई हैं. कुछ सीटों पर सपा ने अपने प्रत्याशियों की घोषणा तो कर दी है पर बची सीटों पर उम्मीदवारी सूची आने के बाद ही साफ़ हो सकेगी. यही बात बसपा और कांग्रेस के साथ भी लागू होती है. लेकिन भाजपा खेमें में टिकट फाइनल होने की सुगबुगाहट और तेज़ हो रही है. 2019 लोकसभा चुनाव बीजेपी के लिए चुनौतियों से भरा होने वाला है. इसलिए भाजपा किसी स्तर पर कोई कसर नहीं छोड़ना चाह रही है. बीजेपी की चुनौतियों में सबसे बड़ी चुनौती टिकट बंटवारे को लेकर है. इसी को लेकर बीजेपी दो दर्जन से अधिक सांसदों का टिकट काटने की तैयारी कर चुकी है.

खबर है कि दिल्ली में हुई संसदीय दल की बैठक में इसी तैयारी हो चुकी है. होली से पहले 16 मार्च तक बीजेपी अपने लोकसभा उम्मीदवारों की पहली लिस्ट जारी कर सकती है. इसमें पहले चरण में जिन आठ लोकसभा सीटों पर 11 अप्रैल को मतदान होगा उसके प्रत्याशीयों के नाम होंगे. साथ ही जिनका टिकट पहले से ही तय है उनका भी नाम होगा.

इन सांसदों उम्मीदवारी पर लटक सकती है तलवार...

बलिया-भरत सिंह, सलेमपुर- रविंद्र कुशवाहा, कुशीनगर- राजेश पांडेय, भदोही- वीरेंद्र सिंह, राबर्ट्सगंज- छोटेलाल खैरवार, जौनपुर- कृष्णाप्रताप, मछलीशहर- रामचरित्र निषाद, - हरिनारायण राजभर, बस्ती- हरीश द्विवेदी, संतकबीरनगर- शरद त्रिपाठी, अकबरपुर -देवेंद्र सिंह, घोसी-हरिनारायण राजभर इलाहाबाद-श्यामाचरण गुप्ता, अंबेडकरनगर- हरिओम पांडेय, बहराइच- सावित्री बाई फूले, श्रावस्ती- दद्दन मिश्रा, हरदोई- अंशुल वर्मा, मिश्रिख- अंजू बाला, आंवला- धर्मेंद्र कश्यप, इटावा- अशोक दोहरे, फतेहपुर-निरंजन ज्योति, फतेहपुर सिकरी- चौधरी बाबूलाल, हमीरपुर- कुंवर पुष्पेंद्र सिंह, रामपुर- नैपाल सिंह, धौरहरा- रेखा वर्मा, संभल- सत्यपाल सिंह सैनी, मेरठ- राजेंद्र अग्रवाल, बाराबंकी- प्रियंका रावत, उन्नाव- साक्षी महराज.

टिकट काटने वाले इन सांसदों की संख्या में इजाफा भी हो सकता है. इन सीटों पर अधिकांश ऐसे सांसद हैं जो कई बार अपनी ही पार्टी के सिद्धांतो को लेकर मुखर भी हुए हैं. बहराइच की बीजेपी सांसद सावित्री बाई फुले ने अब तो कांग्रेस का दामन भी थाम लिया है. दूसरी तरफ टिकट काटने का दूसरा कारण 2014 के लोकसभा चुनाव में मोदी लहर के बावजूद जीत का आंकड़ा कम रहना जाना भी है. संभल के सांसद सत्यपाल सिंह सैनी की जीत मात्र पांच हजार से कुछ अधिक वोटों से हुई, वहीं रामपुर के सांसद नैपाल सिंह की जीत 23000 से और बस्ती से हरीश द्विवेदी की 33000 से कुछ अधिक वोटों से जीत हुई थी.

बीजेपी एक बार फिर 'मोदी है तो मुमकिन है' के नारे के साथ मैदान में उतर रही है. ऐसे में स्थानीय प्रतिनिधियों से जनता की शिकायतों को नजरअंदाज नहीं किया जाएगा और ये संदेश देने की कोशिश की जाएगी कि जनता अगर अपने प्रतिनिधि से खुश नहीं है तो उन्हें बदल दिया जाएगा.

ख़बरों से अपडेट रहने के लिए हमारा फेसबुक पेज लाइक करें और यूट्यूब पर सब्सक्राइब करें…

Subscribe

Like this News, become a Newsinvestigator Reporter with a Click and make your voice heard.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *


Categories

Bollywood Crime Politics Lucknow Zyaka Other