Breaking News

पंकज त्रिपाठी ने अपने गाँव में शुरू किया अनोखा काम, लोगों ने की जमकर तारीफ

पंकज त्रिपाठी आज बॉलीवुड के बेहतरीन कलाकारों में गिने जाते हैं। उन्होंने अब तक कई फिल्मों और वेब शोज में काम किया है। उन्होंने ये पहचान अपने दम पर बनाई है। पंकज त्रिपाठी गाँव की मिट्टी से जुड़े हुए इंसान हैं और समय मिलने पर वे अपने गाँव जरूर जाते हैं। बॉलीवुड में वे काफी सक्रिय हैं और अपनी बेहतरीन अदाकारी से वे दर्शकों के दिलों में राज करते हैं और दर्शक भी उन्हें हमेशा एक नए रूप में देखने को बेताब रहते हैं। वे इतनी व्यस्तता के बाद भी अपने गाँव जाने के लिए समय निकाल ही लेते हैं। इस बार भी पंकज त्रिपाठी अपने गाँव पहुँचे हैं लेकिन इस बार घूमने नहीं बल्कि एक खास वजह से अपने गाँव गए हैं। आइए जानते हैं क्या है वह खास वजह-

पर्यावरण के प्रति सजगता का अभियान

पंकज त्रिपाठी अपने गाँव अक्सर घूमने और लिट्टी चोखा का मजा लेने जाते हैं लेकिन इस बार वे अपने गाँव एक विशेष अभियान को लेकर पहुँचे हैं। इस अभियान को उन्होंने पर्यावरण सजगता अभियान नाम दिया है। इस अभियान को उन्होंने अपने गाँव से शुरू किया है। बता दें की पंकज त्रिपाठी गोपालगंज के बरौली प्रखंड के बेलसंड गांव के रहने वाले हैं और वे इन दिनों यहाँ आए हुए हैं। इस अभियान को लेकर पंकज ने कहा की ये कोई नया अभियान नहीं है बल्कि उनकी एक पुरानी योजना थी। उन्होंने बहुत पहले से वृक्षारोपण को लेकर योजना बनाई थी। वे चाहते थे कि हर व्यक्ति को पर्यावरण के बारे में सजग होना जरूरी है और पेड़ लगाना जरूरी है। उनके इस अभियान में उनके जिला प्रशासन ने भी सहयोग दिया और कई अधिकारियों ने उनके इस काम को सराहा। उन्होंने अबही फिलहाल 500 पौधों का लक्ष्य बनाया है ताकि इससे वे लोगों को जागरूक कर सकें।

Pankaj Tripathi Was Once Told By A Village Elder That He Could Replace Heroines In Bollywood | जब पंकज त्रिपाठी को गांव में लड़की के गेटअप में देखकर एक शख्स ने कहा था- ये लड़का कई हीरोइनों की छुट्टी कर देगा
Source: ABP News

क्या है पंकज त्रिपाठी के भाई का मानना

पंकज त्रिपाठी के भाई विजेंद्र तिवारी ने बातचीत के दौरान बताया कि वृक्षारोपण के लिए एक ट्रस्ट बनाया गया है और ये ट्रस्ट उनके माँ-बाप के नाम पर बनाया गया है। उनके पिताजी का नाम बनारस तिवारी और माँ का नाम हेमवती देवी है। फाउंडेशन की ओर से वृक्षों के रखरखाव के लिए बनपाल रखे गए हैं जो 5 साल तक इनकी देखभाल करेंगे। उन्होंने हरियाली के बारे में अपने विचार बताते हुए कहा कि उनके पूर्वजों द्वारा दी गई हरियाली आज नष्ट हो रही है। इसलिए आने वाली पीढ़ी के सुरक्षित और सफल जीवन के लिए पेड़ होने बहुत आवश्यक हैं।

About Ritesh Sharma

Check Also

Nora Fatehi: नोरा फतेही ने साड़ी पहनकर दिया खूबसूरत पोज, लोग बोले- ‘अब लग रही हो पूरी भारतीय’

मॉडल और एक्ट्रेस नोरा फतेही हमेशा है लोगों को अपने डांस का दीवाना बना लेते …