यूपी में मायावती के आने वाले हैं ”अच्छे दिन ”, जानिए क्या है रणनीति

February, 9th 2018 |POLITICS

लखनऊ। राज्यसभा के साथ ही लोकसभा उपचुनाव में यूपी की सियासत के नई करवट लेने के आसार हैं। बीजेपी को पटखनी देने के लिए विपक्ष का एकजुट होकर साझा उम्मीदवार उतारने की रणनीति परवान चढ़ने की संभावना जताई जा रही है। विपक्ष की कोशिश है कि एकजुटता के बल पर अप्रैल में संभावित राज्यसभा चुनाव में भी दो सीटें हासिल कर ली जाएं। इनमें से एक समाजवादी पार्टी को मिलना तय है और दूसरी कांग्रेस, एसपी, बीएसपी और आरएलडी मिलकर आसानी से जीत जाएंगे। इस सीट पर बीएसपी प्रमुख मायावती के संयुक्त कैंडिडेट होने की ज्यादा संभावना राजनीति के जानकार मान रहे हैं।

वहीँ दूसरी तरफ भाजपा खेमे में खलबली मची नज़र आ रही है, चूँकि उनको विपक्षी दलों की गठबंधन से घबराहट हो रही है, प्रदेश के उप मुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्या ने विपक्षी दलो पर हमला बोलते हुए कहा कि मायावती गठबधन किसी से कर ले हमें कोई परवाह नही है। राम गोपाल हो या सपा का कोई नेता हो, वोट के लिए घटिया बयानबाजी होती है तो इससे बचना चाहिए। पहले भी अन्य पार्टियां एकजुट होकर लड़ी है लेकिन जनता के आशीर्वाद से हम विजयी हुए हैं। सर्किट हाउस मे पत्रकारो व कार्यकर्ताओ के बीच वार्ता करते हुए केशव मौर्या ने दावे के साथ कहा कि वर्ष 2019 मे भी नरेद्र मोदी के नेतृत्व मे हम विजय प्राप्त करेगे और देश को नंबर वन बनाएगे। कहा कि हम जनता के बल पर जीतते हैं।

ख़बरों से अपडेट रहने के लिए हमारा फेसबुक पेज लाइक करें…

Like this News, become a Newsinvestigator Reporter with a Click and make your voice heard.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *


Categories