टिकट न मिलने से नाराज समाजवादी पार्टी से राज्यसभा सांसद नरेश अग्रवाल भाजपा में होंगे शामिल

March, 12th 2018 |POLITICS

टिकट न मिलने से नाराज समाजवादी पार्टी से राज्यसभा सांसद नरेश अग्रवाल भाजपा में होंगे शामिल

समाजवादी पार्टी से राज्यसभा सांसद नरेश अग्रवाल भारतीय जनता पार्टी की सदस्यता ग्रहण कर सकते हैं। सूत्रों के मुताबिक, भाजपा पार्टी अध्यक्ष अमित शाह नरेश अग्रवाल को भाजपा की सदस्यता ज्वाइन करा सकते हैं। समाजवादी पार्टी ने नरेश अग्रवाल का टिकट काटा था। उनका आगामी 2 अप्रैल को कार्यकाल समाप्त हो रहा है। इसके चलते आशंका जताई जा रही है कि नरेश अग्रवाल ने भाजपा ज्वाइन कर रहे हैं।

ख़बरों के मुताबिक, सपा नेता नरेश अग्रवाल वित्त मंत्री अरुण जेटली के घर पहुंचे। इसके चलते भाजपा में शामिल होने की संभावनाएं तेज हो गईं। आशंका जताई जा रही है कि वह अनिल अग्रवाल को जितवाने की जिम्मेदारी भी ले सकते हैं। बता दें कि वित्तमंत्री अरुण जेटली समेत 8 बीजेपी प्रत्याशियों ने सोमवार को राज्यसभा चुनाव के लिए उत्तर प्रदेश से नामांकन किया। विधानसभा के टंडन हॉल में सभी बीजेपी प्रत्याशियों ने पर्चा दाखिल किया।

इस दौरान प्रदेश अध्यक्ष डॉ. महेंद्रनाथ पांडेय, दोनों डिप्टी सीएम केशव प्रसाद मौर्य व डॉ. दिनेश शर्मा समेत योगी सरकार के कई मंत्री और नेता मौजूद रहे. जेटली के अलावा सपा छोड़कर बीजेपी का दामन थामने वाले अशोक बाजपेयी, विजय पाल सिंह तोमर, सकलदीप राजभर, कांता करदम, अनिल जैन, जीवीएल नरसिम्हा राव और हरनाथ सिंह यादव ने भी राज्यसभा के लिए नामांकन किया।

उत्तर प्रदेश में 10 राज्यसभा सीटों के लिए चुनाव होना है। इनमें से बीजेपी के 8 और सपा के 1 सदस्य की जीत पक्की है। एक सदस्य के लिए जोड़-तोड़ देखने को मिल सकती है। आखिरी सीट के लिए सपा, कांग्रेस और रालोद ने बसपा उम्मीदवार भीमराव अम्बेडकर को समर्थन दिया है। वहीं, बीजेपी ने भी एक निर्दलीय समाजसेवी को समर्थन देकर मैदान में उतारने जा रही है। बीजेपी और सहयोगी दलों के पास 325 विधायक हैं।

एक सीट के लिए 37 विधायकों की जरुरत है 8 प्रत्याशियों को राज्यसभा भेजने के बाद बीजेपी के पास 21 अतिरिक्त विधायक बच रहे हैं। वहीं,सपा के पास 47 विधायक है। जया बच्चन को राज्यसभा भेजने के बाद उसके पास 10 विधायक शेष हैं। बसपा के 19 विधायक और कांग्रेस के पास 7 विधायक हैं। सपा के बचे हुए विधायक और बसपा कांग्रेस के विधायक मिलाकर कुल संख्या 36 पहुंचती है। रालोद के एक विधायक के समर्थन के बाद बसपा के भीमराव अम्बेडकर आसानी से चुन लिए जाएंगे। बावजूद इसके बीजेपी ने एक निर्दलीय को मैदान में उतारकर सेंध लगाने की कोशिश की है।

ख़बरों से अपडेट रहने के लिए हमारा फेसबुक पेज लाइक करें…

Like this News, become a Newsinvestigator Reporter with a Click and make your voice heard.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *


Categories