गणतंत्र दिवस के समय पर पहली बार देश के सामने इतनी चुनौतियां – मायावती

January, 25th 2018 |POLITICS

गणतंत्र दिवस के समय पर पहली बार देश के सामने इतनी चुनौतियां - मायावती

ज्यादा हिंसा, उग्रता व अव्यवस्था छायी हुई हैं। इनके लिए भाजपा सरकार की अपनी जातिवादी, सांप्रदायिक व जनविरोधी नीतियां व कार्यप्रणाली जिम्मेदार है।

मायावती ने 69वें गणतंत्र दिवस की पूर्व संध्या पर सभी देशवासियों को बधाई दी है। उन्होंने कहा कि बाबा साहेब डॉ भीमराव अम्बेडकर की अथक मेहनत व मानवता के प्रति उनकी सूझबूझ, दूरदृष्टि एवं देशहित की समतामूलक व धर्मनिरपेक्ष सोच से बना संविधान 26 जनवरी के दिन लागू हुआ था। संविधान ही आम जनता की असली विरासत, प्रेरणा व शक्ति है। इसे बचाए रखने की चुनौती देश के 125 करोड़ लोगों के सामने उठ खड़ी हुई है।

बसपा सुप्रीमो ने कहा कि यह आकलन करना बहुत जरूरी हो गया है कि देश के अनुपम संविधान के अनुरूप मानवीय लक्ष्यों को हासिल करने में कितनी सफलता मिली? गरीबी, बेरोजगारी, जातिवादी शोषण व जुल्म-ज्यादती कितनी दूर हुई हैं। सामाजिक न्याय व आर्थिक समानता के क्षेत्र में देश ने कितना काम किया है?

उन्होंने कहा, देश के मौजूदा हालात जनता को चिंतित किए हुए है। इनसे छुटकारा पाने के लिए आने वाले समय में देश को सर्वजन हिताय व सर्वजन सुखाय के लिए काम करने वाली सरकार की जरूरत है।

ख़बरों से अपडेट रहने के लिए हमारा फेसबुक पेज लाइक करें…

Like this News, become a Newsinvestigator Reporter with a Click and make your voice heard.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *


Categories