बाढ़ का प्रकोप यूपी-बिहार समेत देश के विभिन्न हिस्सों में जारी

August, 17th 2017 |Other, Uncategorized

बाढ़ का प्रकोप यूपी-बिहार समेत देश के विभिन्न हिस्सों में जारी

लखनऊ। बाढ़ के कारण यूपी और बिहार के गावों की स्थिति बेहद ख़राब है। आप समझ सकते हैं जब आपके और हमारे घरों के सामने बारिश का पानी इकठ्ठा हो जाता है या किन्ही कारणों से हम बारिश में जाम में फस जाते हैं तो कितनी समस्यायें होती हैं।

आज कई गांव जलमग्न हैं। लोगों के घरों में पानी भरा है। गांव के लोगो को एनडीआरएफ की मदद से ऊँचे स्थानों तक पहुंचाया जा रहा है। ये स्तिथि बीते कुछ दिनों में और विकराल रूप में आ गयी है।

यूपी के 75 जिलों में से 15 जिले बाढ़ से प्रभावित हैं। बिहार में अररिया, मोतिहारी, किसनगंज, कटिहार और भागलुपर बाढ़ से सबसे ज्यादा प्रभावित है। बिहार के 13 जिले 70 लाख लोग बाढ़ की चपेट में हैं। लाखों लोग घरों से निकलने पर मजबूर हैं। एनडीआरएफ की कई टीमें राहत कार्य में जुटी है। बिहार की ओर से जाने और आने वाली कई ट्रेनें रद्द कर दी गई है। रेल परिचालन बुरी तरह से प्रभावित हुआ है। मोबाइल सेवा पूरी तरह से ठप है। नेपाल में हो रही तेज बारिश से वहां भी बाढ़ आ गई है। हजारों पर्यटक फंसे हुए हैं। लोगों के घरों में पानी घुस गया है।

जुलाई और अगस्त में हुई तेज बारिश ने कई सालों का रिकॉर्ड तोड़ दिया है। चारों ओर बाढ़ से हाहाकार मची हुई है। प्रशासन ने कई इलाकों में अलर्ट जारी कर दिया है। बिहार में लोग घरों से निकलकर सामूहिक कैंटीन चला रहे हैं।

 

 

यूपी के बाराबंकी में बांध टूटने और बैराजों से पानी छोड़े जाने के कारण गोंडा लखनऊ रोड पर घाघरा पुल से नीचे घाघरा नदी उफान पर है। पानी की स्पीड चालीस किलोमीटर से अधिक तेज बताई गई है। इसके कारण बाढ़ का संकट बढ़ रहा है।

नेपाल से छोड़े गए पानी से घाघरा नदी अपने रौद्र रूप में आ गई है। मंगलवार को भोर मे एल्गिन चरसड़ी बांध कट गया। इससे बाराबंकी व गोण्डा जिले के आधा दर्जन से अधिक गांव डूब गए। भीषण तबाही की संभावना को देख प्रशासन ने एनडीआरएफ से मदद मांगी है।

मंगलवार को भोर में तीन बजे एल्गिन चरसड़ी बंधा 27.500 किमी पर बांसगांव के पास कट गया। जिसके कारण नदी का पानी तेजी से गांवों मे घुस रहा। फिलहाल बाराबंकी का असवा और बांसगांव के अलावा गोण्डा का चार गांव डूब चुके हैं पानी तेजी से अन्य गांवो की ओर बढ़ रहा है। बलरामपुर में भी 200 के करीब गांव बढ़ की जड़ में हैं।

 

ये स्तिथि मात्र यूपी के तीन जिलों की ही है। ऐसे ही स्थिति बाकि के 12 और बिहार के 13 जिलों की है। हम सोच सकते हैं किन परिस्थितियों से बाढ़ से पीड़ित लोगों को जूझना पद रहा होगा। ये स्थिति भयावह है।

Like this News, become a Newsinvestigator Reporter with a Click and make your voice heard.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *


Categories