बाराबंकी में शिक्षिकाओं ने की प्रधानाध्यापिका की पिटाई, 4 शिक्षिकाएं निलंबित

August, 17th 2017 |CRIME

बाराबंकी में शिक्षिकाओं ने की प्रधानाध्यापिका की पिटाई, 4 शिक्षिकाएं निलंबित

बाराबंकी।  बाराबंकी के सतरिख में उच्च प्राथमिक विद्यालय का एक मामला सामने आया है जिसने बेसिक शिक्षा परिषद में तैनात शिक्षकों के प्रशिक्षित होने पर फिर सवालिया निशान लगा दिया है। मामला उच्च प्राथमिक विद्यालय डल्लूखेड़ा का है, जहाँ कक्षा में देरी से पहुंचने पर प्रधानाध्यापिका के फोटो खींचने पर शिक्षिका और उनकी साथी शिक्षिकाओं ने हमला बोल दिया और प्रधानाध्यापिका की जमकर पिटाई कर दी।

प्रधानाध्यापिका ने शिक्षिकाओं पर उनके कपड़े भी फाड़ देने का आरोप लगाया है। शिक्षा के मंदिर में बच्चों के सामने आधे घंटे शिक्षिकाओं ने मर्यादा को ताक पर रख कर जमकर शिक्षक होने का परिचय दिया है।

इससे शिक्षिकाओं की मर्यादा तो गिरी ही, साथ ही स्कूल में पढ़ाई भी बाधित हो गई। मामला तूल पकड़ने पर बीएसए ने चार शिक्षिकाओं का तबादला कर जांच बैठा दी है। प्रधानाध्यापिका ने डीएम से मिलकर शिकायत दर्ज कराई है। पूर्व माध्यमिक विद्यालय डल्लूखेड़ा में नौ शिक्षिकाएं तैनात हैं।

पीड़ित प्रधानाध्यापिका का कहना है कि सहायक अध्यापिका अक्सर देर में स्कूल आती हैं और उपस्थिति पंजिका पर गलत समय डालकर हस्ताक्षर करती हैं। लगभग आधे घंटे तक चले इस विवाद का तमाशा देखने के लिए भारी संख्या में ग्रामीण भी वहां इकट्ठा हो गए थे।

नजारा देख कर बच्चों में दहशत फैल गई। प्रधानाध्यापिका नवाबगंज तहसील पहुंच कर डीएम से इसकी लिखित शिकायत की जिस पर डीएम ने बीएसए को कड़े निर्देश दिए हैं।

सही मायने में देखा जाये तो देर से शिक्षकों के आने का मामला ज्यादातर परिषदीय विद्यालयों में देखने को लगातार मिल रहा है। जबकि इसकी पूरी जिम्मेदारी खंड शिक्षा अधिकारीयों की होती है, कि वह नियमता विद्यालयों का दौरा करें।

Like this News, become a Newsinvestigator Reporter with a Click and make your voice heard.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *


Categories